खुशियाँ चाहे किसीके साथ भी

?•┈✤ आज का सुविचार✤┈•? ?????????? खुशियाँ चाहे किसीके साथ भी बाँट लो, लेकिन गम भरोसे-मंद के साथ ही बाँटना चाहिए जो ना मिले उसकी ही चाहत होती है, जो मिल जाये उसकी कदर ही कहाँ होती है ?????????? ?‍♂ जय श्री कृष्णा ?‍♂ ? *सुप्रभातम्* ?

ज़िंदगी में कुछ अरमान

ज़िंदगी में कुछ अरमानबारिश की बूँदों की तरह होते हैं… जिन्हें छूने की चाहत मेंहथेलियाँ तो भीग जाती हैंमगर हाथ हमेशा खालीरह जाते हैं.. ???शुभ दिन?सुप्रभात???

सड़क कितनी भी साफ हो

?????????? सड़क कितनी भी साफ हो “धूल” तो हो ही जाती है, इंसान कितना भी अच्छा हो “भूल” तो हो ही जाती “मैं अपनी ‘ज़िंदगी’ मे हर किसी कोअहमियत’ देता हूँ…क्योंकिजो ‘अच्छे’ होंगे वो ‘साथ’ देंगे…और जो ‘बुरे’ होंगे वो ‘सबक’ देंगे…!! जिंदगी जीने के लिए सबक और साथ दोनों जरुरी होता है।सुप्रभात ??????????

जिसमे नुकसान सहने की ताकत

????जिसमे नुकसानसहने की ताकत होवही मुनाफा कमा सकता है. फिर चाहे वोकारोबार हो या रिश्ते… जिन्दगी की हर तपिश को मुस्कुरा कर झेलिए…क्योंकि धूप कितनी भी तेज हो समंदर सूखा नहीं करते !! ??प्रभात वन्दे??

परखो तो कोई अपना नहीं

(?सुंदर लाइन,?)परखो तो कोई अपना नहीं,समझो तो कोई पराया नहीं,चेहरे की हंसी से,गम को भुला दो,कम बोलो पर,सब कुछ बता दो,खुद ना रूठो पर,सबको हंसा दो,यही राज है जिंदगी का,जियो और जीना सिखा दो,।ॐ जय श्री राधे कृष्णा की,।।?????ॐ हरिॐ जी आप को सुप्रभात,ॐ हनुमंते नमः,ॐ मंगल को जन्मे मंगल ही करदे,मंगलमय हनुमान,ॐ जय हनुमानजी… Continue reading परखो तो कोई अपना नहीं

एक सुबह होगी जब लोगों के

एक सुबह होगी ?? जब लोगों के कंधों पर ऑक्सीजन सिलेंडर नहीं दफ्तर का बैग होगा, गली में एंबुलेंस नहीं स्कूल की वैन होगी, और भीड़ दवाखानो पर नहीं चाय की दुकानों पर होगी, एक सुबह होगी ❤❤ जब पेपर के साथ पापा को काढ़ा नहीं चाय मिलेगी, दादाजी बाहर निकल कर बेखौफ पार्क में… Continue reading एक सुबह होगी जब लोगों के

खुशी से बढ़ कर पौष्टिक
खुराक

खुशी से बढ़ कर पौष्टिकखुराक कोई भी नहीं हैदूसरों को खुशियाँ देना हीसबसे बड़ा पुण्य का काम हैसुख में सौ मिले दुख में मिले न एकसाथ कष्ट में जो रहे साथी वही है नेकक्रोध हवा का वह झोंका है जोबुद्धि के दीपक को बुझा देता हैजिनकी भाषा में सभ्यता होती हैउनके जीवन में सदैव भव्यता… Continue reading खुशी से बढ़ कर पौष्टिक
खुराक

घड़ी की सुईयो की तरह

?Good Morning? ?घड़ी की सुईयो की तरह जीवन मेंअपने रिश्तों को बनाए रखें? ?कोई फर्क नहीं पड़ता किकोई तेज है और कोई धीमा? ?मायने रखता है जुडे रहना!? ?Stay Home Stay Healthy?

सफलता भी फीकी लगती है

“सफलता” भी फीकी लगती है, यदि कोई “बधाई देने वाला” नहीं हो।और “विफलता” भी सुन्दर लगती है, जब आपके साथ “कोई अपना खड़ा” हो।*ना दूर रहने से रिश्ते टूट जाते हैं* *और* ना पास रहने से जुड़ जाते हैंयह तो एहसास के पक्के धागे हैजोयाद करने सेऔर मज़बूत हो जाते है।??प्रातः वंदन?????????????

विधि का विधान

? विधि का विधान ? भगवान श्री राम जी का विवाह और राज्याभिषेक दोनों शुभ मुहूर्त देख कर ही किया गया था, फिर भी ना वैवाहिक जीवन सफल हुआ और ना ही राज्याभिषेक। और जब मुनि वशिष्ठ सेइसका जवाब मांगा गया तोउन्होंने साफ कह दिया- सुनहु भरत भावी प्रबलबिलखि कहेहूं मुनिनाथलाभ-हानि जीवन-मरणयश – अपयश विधि… Continue reading विधि का विधान