Home शुभ संध्या / शुभ रात्री एक दिन उम्र ने तलाशी ली

एक दिन उम्र ने तलाशी ली

783
0

एक दिन उम्र ने तलाशी ली,
तो जेब से लम्हे बरामद हुए

कुछ ग़म के थे,_
कुछ नम से थे,_
कुछ टूटे हुए थे,_

जो सही सलामत मिले..

वो बचपन के थे..!!

Previous articleबोलिये वृन्दावन बिहारी लाल की जय
Next articleसौ ख्वाब हैं इक जिन्दगी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here